WHO WE ARE

एक प्रयास

65 Posts

470 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 10975 postid : 911329

‘सिम्पटम’ नहीं ‘सिस्टम’ ठीक करें

  • SocialTwist Tell-a-Friend

जन्म से लेकर मृत्यु तक, सुबह उठने से लेकर रात में सोने तक जीवन में चुनौतियों के साथ समस्यायें आती रहती हैं पर याद रखने वाली बात यह है कि जहाँ समस्या है समाधान भी वहीँ है. प्रयास बस यह करना है कि समस्या जितनी बड़ी हो, समाधान भी उसी अनुपात में ढूंढते रहना होगा जिससे उसका पूर्ण निदान हो सके.


आज शरीर से लेकर समाज तक में अनेकों प्रकार की बीमारियाँ मौजूद हैं. बुद्धिजीवी वर्ग इन बिमारियों के निदान के लिए रात-दिन एक किये हुए हैं पर जैसे ही किसी एक बीमारी का उपचार मिलता है दूसरी मुंह बाए खड़ी रहती है. कारण यही है कि हम शारीरिक और सामाजिक बीमारी के लक्षणों अर्थात सिम्पटम को ही आधार मानकर उस पर केन्द्रित हो जाते हैं जबकि ऐसे किसी भी सिम्पटम का उत्पन्न होना यह दर्शाता है कि हमारे सिस्टम में कहीं ना कहीं खराबी की शुरुआत हो चुकी है जिसे समय रहते ठीक नहीं किया गया तो वह कभी भी पूरा का पूरा सिस्टम ही बर्बाद कर देगा. राष्ट्र यदि एक सिस्टम है तो जाति, मजहब, भाषा, क्षेत्र आदि इसके सिम्पटम हैं. राष्ट्रवाद को भूलकर जातिवाद, मजहबवाद, भाषावाद, क्षेत्रवाद अपनाना क्या है? यह भी तो यही दर्शाता है कि कहीं ना कहीं ऐसे सिम्पटम हमारे सिस्टम को नुक्सान पहुंचा रहे हैं.


योग गुरु स्वामी रामदेव भी तो यही कहते हैं कि समाज में जितनी भी बुराइयाँ हैं उन सभी का समाधान योग में है पर कुछ लोग योग को लेकर भ्रान्ति फैलाते रहते हैं. वास्तविकता तो यही है कि योग ना सिर्फ बिमारियों के सिम्पटम को ही दूर करता है अपितु यह पूरे के पूरे सिस्टम को ही ठीक कर देता है. यहाँ योग का मतलब सिर्फ आसन या प्राणायाम से नहीं है बल्कि योग का मतलब अष्टांग योग से है जिसमें सामाजिक और व्यक्तिगत आचरण के नियमों का पालन भी शामिल है.


ज्यादातर लोग योगाभ्यास को शारीरिक बिमारियों को दूर करने से जोड़कर ही देखते हैं और कुछ विशेष आसनों और प्राणायामों को ही योग समझते हैं पर आसन और प्राणायाम तो योग के दो मुख्य अंग मात्र हैं जो शरीर के आतंरिक और वाह्य सिस्टम में आ रही कमियों को दूर करने में सहायक हैं.


Wrikshasanयोग की पौराणिक मान्यता है कि इससे अष्ट चक्र अर्थात मूलाधार, स्वाधिष्ठान, मणिपुर, ह्रदय, अनाहत, आज्ञा एवं सहस्त्रार जागृत हो जाते हैं और चिकित्सा विज्ञान में इन आठ चक्रों को ही रिप्रोडक्टरी, एक्स्क्रेटरी, डाइजेस्टिव, स्केलेटन, सर्कुलेटरी, रेस्पिरेटरी, नर्वस एवं एन्डोक्राइन सिस्टम कहा जाता है. यदि हमारे ये आठों सिस्टम संतुलित हैं और ठीक से कार्य कर रहे हैं तो शरीर में बीमारी का कोई भी सिम्पटम नहीं आ सकता और यदि आएगा भी तो स्वतः नष्ट हो जायेगा. इन आठ सिस्टम को संतुलित बनाने के लिए ही योग ऋषि स्वामी रामदेव ने आठ प्राणायामों का एक पूर्ण पॅकेज दिया है जिसमें भस्त्रिका, कपालभाती, वाह्य एवं इसकी सहायक क्रिया अग्निसार, उज्जायी, अनुलोम-विलोम, भ्रामरी, उदगीथ एवं प्रणव का ध्यान हैं. इन आठ प्राणायामों का नियमित अभ्यास हमारे आठों सिस्टम को संतुलन बनाकर हमें पूर्ण आरोग्य प्रदान करने में सक्षम है. भस्त्रिका, कपालभाती व बाह्य प्राणायाम  की प्रक्रियांयें जहाँ हमारे रिप्रोडक्टरी, एक्स्क्रेटरी, डाइजेस्टिव व स्केलेटन सिस्टम को समग्र रूप से संतुलित व स्वस्थ बनाती हैं वहीँ अनुलोम-विलोम, भ्रामरी, उदगीथ व प्रणव प्राणायाम सर्कुलेटरी, रेस्पिरेटरी, नर्वस एवं एन्डोक्राइन सिस्टम को पूर्णतः संतुलित कर हमें सम्पूर्ण आरोग्य देती हैं.


हमारे शरीर के भीतर लगातार परिवर्तन घटित होता रहता है यदि यह परिवर्तन सही दिशा में नहीं हुआ तो आतंरिक हारमोन, रसायन, साल्ट, अन्तःस्रावी ग्रंथियां असंतुलित होती हैं जोकि बीमारी की कारक बनती हैं. यह परिवर्तन सही दिशा में हो इसके लिए जरुरी है प्राणायाम का नियमित अभ्यास. आधुनिक चिकित्सा पद्धति में सिम्पटम बदलने के साथ ही दवा बदल जाती है पर प्राणायाम पूरे सिस्टम पर एक साथ कार्य करता है. अतः नियमित योग करें और ‘सिम्पटम’ नहीं अपने पूरे ‘सिस्टम’ को ठीक करें.

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

4 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Shobha के द्वारा
June 22, 2015

प्रिय वन्दना जी बहुत अच्छे शीर्षक में लिखा गया सार्थक लेख नियमित योग करें और ‘सिम्पटम’ नहीं अपने पूरे ‘सिस्टम’ को ठीक करें.योग के समर्थन में बहुत अच्छा वाक्य डॉ शोभा

    Vandana Baranwal के द्वारा
    June 29, 2015

    आदरणीया शोभा जी, पिछले लगभग आठ वर्षों से भी अधिक समय से अपनी नौकरी छोड़कर निःस्वार्थ भाव से योग से ही जुडी हूँ. विश्व योग दिवस मनाने के पश्चात ऐसा लगा मानो दुनिया की सारी खुशी एक साथ मिल गयी. ब्लॉग पर आने एवं उत्साहवर्धन के लिए ह्रदय से आभार.

Maharathi के द्वारा
June 21, 2015

सुश्री वन्दना बरनवाल जी सादर प्रणाम। “जरुरी है प्राणायाम का नियमित अभ्यास” सहमति है आपके विचारों से। उत्तम लेख लिखा है। बिना सोच विचार कर चाहे कुछ बोलने वालों के गाल पर करारा तमाचा है।। महारथी।।

    Vandana Baranwal के द्वारा
    June 29, 2015

    आदरणीय महारथी जी, सादर अभिवादन स्वीकार करें. पता नहीं क्यों कुछ लोग भारत की बिगड़ी व्यवस्थाओं को ना तो सुधारने का प्रयास करते हैं और ना ही प्रयास करने वालों और उनके प्रयासों को सफल होने देते हैं. ब्लॉग पर आने के लिए धन्यवाद


topic of the week



latest from jagran