WHO WE ARE

एक प्रयास

65 Posts

470 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 10975 postid : 880493

आज तुम्हारा दिन है.

  • SocialTwist Tell-a-Friend

उसका पसीना ही उसके लिए डिओडोरेंट है क्योंकि एक श्रमिक श्रम करता है शर्म नहीं.  हर रोज भरपूर पसीना बहाने के लिए उसे  किसी फाइव स्टार सरीखे दिखने वाले जिम में जाने की जरुरत नहीं बल्कि जिंदगी की हर जंग से लड़ने के लिए अपने पसीने को ही वह अपना हथियार बनाता है. खाना पचाने के लिए वह  चूरन नहीं खाता बल्कि उनकी मेहनत खुद-ब-खुद उसकी मोटी और जली हुयी रोटी भी पचा देती है. सोने के लिए मुलायम बिस्तर और वातानुकूलित संयंत्र की उसे दरकार नहीं होती बल्कि दिन भर के बाद थकान इतनी बढ़ जाती है कि फुटपाथ पर भी सो जाये तो पता ही नहीं चलता कि कब सुबह हो गयी. पहनने के लिए किसी फैशन डिज़ाइनर के डिज़ाइन किये हुए कपड़े की जरुरत नहीं उसकी  तो पहचान ही है फटी बनियान पर मैला कुचैला एक गमछा. ऐसा गमछा जो उसके लिए बहुउद्देश्यीय है जब जरुरत हुयी तो सिर पर रख लिया बोझा उठाने के लिए और जरुरत पड़ी तो बिछा लिया सोने के लिए. काम करते-करते जब प्यास लगी तो बोतल बंद पानी नहीं  बल्कि सड़क किनारे पड़ी पन्नी में ही कहीं से पानी भरकर प्यास बुझा लेता है.


जब वर्षों से कुछ नहीं बदला तो फिर अब मैं क्यों उम्मीद करूँ. पहले तो झुंझलाहट होती थी कि जब कुछ बदलने वाला ही नहीं तो क्यों लोग धरना प्रदर्शन करते हैं, संगोष्ठियाँ आयोजित करते हैं. पर धीरे-धीरे समझ आने लग गया कि ये सब भी एक हिस्सा हैं जीवन को चलाते रहने के लिए, एक मौका है संतुलन को बनाये रखने के लिए, एक मौका हैं उन लोगों के लिए जो समाज में कुछ करते हुए दिखना चाहते हैं और एक मौका है उनके लिए भी जो समाज के लिए कुछ करते रहना चाहते हैं इस आस के साथ के साथ कि कभी तो बदलेगा कुछ. पर यह बदलाव कैसा हो और कैसे किया जाए इसका किसी के पास भी सटीक उत्तर नहीं होगा.


हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी मई दिवस मनाया गया, मजदूर संगठनों ने कहीं प्रदर्शन किया, कुछ लोगों ने उन पर लेख लिखा किसी ने मई दिवस के इतिहास पर प्रकाश डाला और कहीं ज्ञापन सौंपे गए. मुझे भी लगा कि आज कुछ अलग करती हों और पहुँच गयी उसी चौराहे पर जहाँ हर सुबह लगती है भीड़ उन मजदूरों की जिन्हें यह नहीं पता रहता कि आज दिहाड़ी मिलेगी भी या नहीं और मिलेगी भी तो कितनी मिलेगी इसकी कोई गारंटी नहीं.



मुझे लगा था कि वास्तव में आज तो उन्हीं श्रमिकों का ही दिन है, शायद वे भी कुछ सजधजकर आये होंगे, चौराहे पर कुछ अलग तरह की त्योहारों जैसी रौनक होगी, चेहरे पर उमंग होगी पर मैं गलत थी. कुछ भी तो नहीं बदला था कुछ मजदूर अलसाये से तो कुछ झल्लाए से खड़े थे. उनमें नौजवान भी थे तो अधेड़ भी. तभी एक महिला पर नजर चली गयी, गोद में बच्चे को लिए खडी थी. मैं उसी के पास आगे बढ़ चली. देखते ही देखते दस-बारह मजदूरों का झुण्ड मेरे इर्द-गिर्द जमा हो गया. सब के चेहरे पर एक ही प्रश्न था…….

शर्म नहीं श्रम

क्या मैं चलूँ????


मैं अचकचा गयी और मेरे यह कहते ही कि मैं तो बस यूँ ही आयी थी, उनके चेहरे लटक गए. मेरी स्थिति भी अजीब हो गयी फिर भी हिम्मत करके उस महिला से बात कर ही बैठी. मई दिवस के बारे में जानती हो तुम??? महिला तो कुछ नहीं बोली लेकिन गोद में बैठा बच्चा सहमकर उससे और चिपट गया. अच्छा आप लोग तो जानते होंगे कि आज मई दिवस है, मजदूर दिवस, जानते हैं आप लोग??? पीछे से आवाज आयी, जानकर क्या कर लेंगे. तभी उनमें से एक युवा सामने आया बोला मैडम जी इंटर पास हूँ पर यहाँ आपके सामान्य ज्ञान के प्रश्नों का जवाब जब तक दूंगा उसी बीच कोई साहब आकर किसी और मजदूर को लेकर चला गया तो क्या आज की दिहाड़ी आप देंगी??? उसके शब्दों की तल्खी और उसके पीछे छुपे कारणों को मैं समझ सकती थी फिर भी मैं अपने आपको रोक नहीं सकी और पूछ बैठी कि अगर तुम पढ़े-लिखे हो तो कुछ और काम क्यों नहीं करते??? जवाब के बदले प्रश्न मिला क्या करूँ, मेहनत करने के लिए तैयार खड़ा हूँ, और क्या करूँ???


मुझे भी लगा प्रश्न करना कितना आसान था पर क्या उसका उत्तर मेरे पास है???


श्रमिक दिवस पर मेहनत के ऐसे प्रतीकों को मैं कुछ दे तो नहीं सकी लेकिन मन नमन कर बैठा जो शर्म नहीं बल्कि श्रम करते हैं.  वे किसी को कुछ और तो नहीं दे सकते लेकिन सुबह से शाम कड़ी मेहनत करते हुए दूसरों को मेहनतकश और ईमानदार बनने की सीख अवश्य देते हैं. यह उन्हीं की मेहनत का कमाल है जो आज हम बहुमंजिली इमारतें, शॉपिंग मॉल, मेट्रो और हाईवे का आनंद ले पा रहे हैं, मोटरगाड़ियों में घूम पा रहे हैं और खुद का बोझ उठाने से बचे हुए हैं. उनका नियोक्ता हर दिन बदल जाता है क्योंकि उसे भी नहीं पता होता कि कल जब वो चौराहे पर खड़ा होगा तब कौन आएगा उससे उस दिन काम करवाने और दिहाड़ी देने। त्यौहार या छुट्टी का मतलब उस दिन की दिहाड़ी गयी और मैं चली थी पूछने कि आज तो तुम्हारा दिन है, ‘श्रमिक दिवस क्यों नहीं मनाया’?


दूर कहीं से आवाजें आ रही थीं ‘मजदूर एकता जिंदाबाद’, ‘हमारी मांगें पूरी हों’, शायद कुछ सरकारी कर्मचारी इकठ्ठे होकर अपने नेता के साथ नारे लगा रहे थे.

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (9 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

8 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Amita Srivastava के द्वारा
May 12, 2015

बेस्ट ब्लॉगर ऑफ़ दा वीक चुने जाने की बधाई

    Vandana Baranwal के द्वारा
    June 20, 2015

    धन्यवाद अमृता जी, आज बहुत दिनों बाद ब्लॉग पर आयी इसलिए उत्तर देने में विलम्ब हुआ, क्षमा करेंगी

sadguruji के द्वारा
May 11, 2015

सार्थक और विचारणीय आलेख ! ‘बेस्ट ब्लॉगर आफ दी वीक’ चुने जाने की बधाई !

    Vandana Baranwal के द्वारा
    May 12, 2015

    आदरणीय सदगुरु जी, कोटिशः धन्यवाद. भावनाएं शंब्दों के माध्यम से निकलकर बाहर आ गयीं

Sonam Saini के द्वारा
May 9, 2015

आदरणीय वंदना जी नमस्कार ……जहाँ तक मैंने अब तक समझा है, मुझे कई बार इन सब के बारे में सोचकर, इनके हालात देखकर ऐसा महसूस होता है जैसे भगवान जी ने हर किसी के लिए काम पहले ही बाँट दिया है, मजदुर जितनी मेहनत करता है, कड़ी धुप में जिस तरह से काम करता है वो प्रसंशनीय तो है ही साथ ही साथ उनकी हिम्मत की हमे दाद भी देनी होगी, हम जैसे लोग शायद ही इतनी मेहनत कर पाये जितनी वो लोग करते हैं और इसके लिए उन्हें हिम्मत भगवान ही देते हैं ….भावो से ओतप्रोत आपकी लेखनी के लिए आपको बधाई …

    Vandana Baranwal के द्वारा
    May 12, 2015

    आदरणीया सोनम जी, आपकी प्रतिक्रया के लिए धन्यवाद. तकलीफ होती है समाज में इस असमानता को देखकर पर शायद मेरे पास शब्दों के अतिरिक्त और कुछ नहीं है उन्हें दे पाने के लिए

jlsingh के द्वारा
May 9, 2015

वे किसी को कुछ और तो नहीं दे सकते लेकिन सुबह से शाम कड़ी मेहनत करते हुए दूसरों को मेहनतकश और ईमानदार बनने की सीख अवश्य देते हैं. यह उन्हीं की मेहनत का कमाल है जो आज हम बहुमंजिली इमारतें, शॉपिंग मॉल, मेट्रो और हाईवे का आनंद ले पा रहे हैं, मोटरगाड़ियों में घूम पा रहे हैं और खुद का बोझ उठाने से बचे हुए हैं. उनका नियोक्ता हर दिन बदल जाता है क्योंकि उसे भी नहीं पता होता कि कल जब वो चौराहे पर खड़ा होगा तब कौन आएगा उससे उस दिन काम करवाने और दिहाड़ी देने। त्यौहार या छुट्टी का मतलब उस दिन की दिहाड़ी गयी और मैं चली थी पूछने कि आज तो तुम्हारा दिन है, ‘श्रमिक दिवस क्यों नहीं मनाया’? बहुत सुन्दर विचार के साथ आपका सदः हुआ आलेख प्रशंसनीय तो है ही, साप्ताहिक सम्मान की बधाई!

    Vandana Baranwal के द्वारा
    May 12, 2015

    आदरणीय जे.एल.सिंह जी, ब्लॉग पर आने एवं प्रतिक्रिया देने के लिए धन्यवाद. विलम्ब से उत्तर देने के लिए क्षमा चाहती हूँ. आप सभी की प्रेरणा से कोशिश जारी जारी है


topic of the week



latest from jagran